नारायणसिंह नोरावत

From meenawiki
Jump to: navigation, search

मुंशी नारायणसिंह नोरावत मीणा समाज को उन्नति की राह पर लाने में श्री मुंशी नारायणसिंह नोरावत डग निवासी का महत्वपूर्ण हाथ रहा l आप राजस्व विभाग में नाजिम के पद से सेवानिवृत्त हुए थे l मीणा सुधार समिति के विभिन सम्मेलनों में आप बराबर उपस्थित होते रहे l एक दो सम्मलेन के आप अध्यक्ष भी रह चुके हैं l आपका सबसे बड़ा व सराहनीय कार्य मुनि मगनसागर जी द्वारा रचित ‘मीन पुराण भूमिका’ का प्रकाशन हैं l इस सन्दर्भ में मारण कुलभूषण युवक श्री गुलाबचंद पाट विधार्थी हिन्दू विश्वविधालय काशी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता l उन्होंने ही ‘मीन-पुराण भूमिका’ की प्रेस कॉपी तैयार की थी l युवक गुलाबचंद हरदा निवासी श्री मूलचन्द पाट के सुपुत्र हैं l पाट परिवार बहुत सुसंस्कृत एवं जनसेवी परिवार है l

श्री नारायणसिंह नोरावत के सुपुत्र श्री रामसिंह नोरावत का भी जाति सेवा में बहुमूल्य योगदान रहा l जयपुर मीणा सुधार समिति एवं राजस्थान मीणा समिति के आप बहुत ही अच्छे कार्यकर्ता रहे l १९६९ के अखिल भारतीय कोटा सम्मलेन में आपके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता l नोरावत परिवार मीणा जाति पर पुलिस अत्याचारों का भी निरंतर विरोध करता रहा l महावीरजी के मेले में मीणा जाति के पांच व्यक्तियों को गोली मारकर पुलिस ने हत्या कर दी l अनेक घायल हो गए थे l उन सभी को न्याय दिलाने का आपने भरसक प्रयास किया l

संदर्भ