बैफ़लावत

From meenawiki
Jump to: navigation, search
Bflwt.jpg
Author of this article is प्रभुनारायण बैफ़लावत

बैफलावत,बैफलावत मुख्यतया राजस्थान में पाया जाने वाला गोत्र हैं ।

Origin

बेफ्लावतो के राज्य के सम्बन्ध में कोई निचित एतिहासिक प्रमाण तो नहीं मिलते पर इनके बही भाटो की बहियों ,एवं जनश्रुतियो के आधार पर कहा जा सकता है की ये प्राचीन धोलागढ़ (अलवर ) के प्राचीन शासक थे बाद में राज्य विस्तार कर हस्तिनापुर( दिल्ली ) को राजधानी बनाई इनका प्रभाव दिल्ली के आस पास था आदिवासी जनपदीय राज्य स्थापित किया पाले गाँव या पालनपुर(पालम हवाई हड्डा ) में पाली माता कुलदेवी का स्थान बनाया ..बैफलावत गौत्र के मीणाओ की एक वंशावली से ज्ञात होता है कि धोलागढ़ अलवर के राजा वारवट ने दिल्ली का खेड़ा जीत कर अपनी राजधानी स्थापित की थी ।किसी बाहरी शक्ति के आक्रमण करने पर विक्रम संवत चलाने वाला राजा विक्रमादित्य भी अपने मीन वंशी भाईयो की सहायता के लिए आया था बाद मे राजा वारवट के वंशजो से तोमर जाटों ने दिल्ली का खेड़ा जीता था । बैफलावत वंशावली का अनंगपाल और तोमर वंशावली का अनंगपाल पृथक वंश के है । पुरानी दिल्ली का कोट प्रथम अनंगपाल जाट ने बनाया था । ब्रह्पाल राजा के वंश नाम से ब्रहपाल+वत=ब्रह्पालवत यानी उसके जैसे लोगो सा समूह ब्रह्पालवत नाम से गोत्र चला | तत्सम शब्द ब्रहपालवत.से तद्भव शब्द .ब्रह्पलावत.या .बैफलावत हुवा |

History

इतिहासकार रावत सारस्वत के अनुसार मीणा लोग सिंधु घाटी सभ्यता के प्रोटां द्रविड़ लोग हैं, जिनका गणचिन्ह मछली था। आर्य लोग इन्हें मीन शब्द के पर्याय मत्स्य से संबोधित करते रहे, जबकि ये लोग स्वयं को मीना ही कहते रहे। यहां के आदिवासी ही माने जाते हैं, इतिहासकारों के अनुसार आर्यों तथा अन्य जातियों के खदेड़े जाने पर ही ये सिंधु घाटी से हटकर अरावली पर्वतमाला में आ बसे, जहां इनके गोत्र आज भी हैं उन्ही गोत्रों में एक गोत्र है बेफलावत यह पच्वारा के पांच प्रमुख गोत्रो में प्रमुख है - हस्तिनापुर दिल्ली हस्तगत होने पर जैफ और बेफ्लावत योद्धाओ ने अपने छापामार दल बना लिए और वापिस मूल राज्य की और लोट आये तेजपाल वीर राजा हुवा उसने तिजारा(अलवर ) बसाया यहाँ से जाकर धोन रावत ने धोण बसाया उसके खता राव हुवा जो महान वीर था इसका काल संवत 992 विक्रम माना जाता है | इसने खाटू और खंडेला बसाया तब से इसके वंसज खाटू कलाए पाली माता ने प्रसन्न होकर 750 घोड़े दिए इसने सेनिक दल बनाकर दौसा राज्य की स्थापना की |.दौसा बडगुजर व कछावाओ दुवार छीन लेने पर पापड्दा बसाया मुगलकाल में करणों बेफ्लावत पच्वारा का महान वीर हुवा उसको खाटा राव भी कहते है यह पच्वारा के पांच वीरो में से था जिनसे मुग़ल शासक डरते थे इन्होने अकबर से भी उनके इलाके से गुजरने पर बोराई(टेक्स) लिया था | खानू बेफ्लावत ने खानुवास बसाया जिसका बेटा तेजा बड़ा ही वीर था अपनी बहिन उमरादे के बामनवास में भात भरने जाते वक्त लालसोट के चौहानों से झगडा हुवा वापिस आकर चौहानों को मार भगाया युद्ध जीतकर जाते हुए पर पीछे से चौहानों के आक्रमण करने पर वीर्गीती प्राप्त की | जिसका स्मारक गाँव-खानुवास व घटा,लालसोट जिला दौसा में बने हुए है

धराड़ी - जाल वृक्ष,कुल देवी -पाली या पाले माता

एक जागा कवि ने..लालसोट की घटना पर ..लिखा है .

खाटा राव खलक में मालम ,जालम खेले दाव | पातसाही दरबार में ,खटके तेजो राव ||

न्याव नगरो बंधियो ,दवाबंध दोरा | आधो जस सुधारण बेफ्लावत, आधो जस ओऱा ||

कशीपुरे र कुसलपुरे दिखी , पापड़दे अधिकाई | हीरो निपजे हेम को ,लिया राहुवास लड़ताई ||

काकड़ बाज्या घुघरा ,फलसे बाज्या ढोल | ओठो बावड रे खाटू का तेजा , थारो अमर रह जागो कुल में बोल ||

Population

Distribution

प्रमुख गाँव- 1-गाँव-पापड़दा,डागोलाई,रामबास,सिंदौली,काली पहाड़ी,चावंड,प्रेमपुरा,राजपुरा,नांगल बेरसी,धरण वास,चक बगलव,भागलाव,गोठड़ा,चेना का बास,काला खो,ईटारडा, ठीकरिया, दहलाडी,रजवास,खानवास,मलवास,राम सिंघपुरा,राजपुरा, कानपुरा,प्यारिवास,टीटोली, कुल 26 गाँव तहसील दौसा जिला दौसा

2-गाँव-कल्ला वास,कल्याणपुरा,नयाबास,रालावास,झापदा,सुरतपुरा,नौरंगपुरा, अभयपुरा, सिंदौली,कुशलपुरा,सहसपुरा,गोपालपुरा,जीतपुर, राहुवास,श्री रामचरण,कुंतल वास,टोडा मीणा,हमावास,कुटक्या,रणवा,तलाब गाँव, कुल-21 गाँव तहसील -लालसोट दौसा

3-बिंदर वाडा,पीलवा ,सिकराई क़स्बा,चक गनीपुर,गनीपुर,नामनेर, आगावली, अम्बाडी, काला खो, देवन वाडा,दांतली,कुल-11 गाँव तहसील सिकराई जिला दौसा

4-गाँव-काशीपुरा,शंकरपुरा,चतरपुरा,चैनपुरा,खोहरी,दोपुर,बिहारीपुरा,संवालियावाला,कुल-8 गाँव तहसील बस्सी जिला जयपुर

5-गाँव-बाढ़ चांदपुरा,भिखर वाड,नांगल लाल,झापदा,धर्मपुरी,लाडपुरा,कुल-6 गाँव तहसील चाकसू जिला जयपुर

6-गाँव-सागर तहसील आमेर जयपुर

7-गाँव-जय सिंग पूरा,चतरपुरा तहसील सांगानेर जयपुर

8-गाँव-इन्दोक ,खेड़ली शियाद,तहसील अलवर जिला अलवर

9-गाँव-चुराणी,गुढ़ा, तहसील थाना गाजी जिला अलवर

10-गाँव-रेणी तहसील रेणी अलवर

11-गाव-भानुखड तहसील-कठूमर,जिला अलवर

12-गाँव-गढ़ खेड़ा तहसील-नदोती,करोली

13-गाँव-कुंतला (खुंटला ) तहसील-गंगापुर जिला सवाई माधोपुर

14-गाँव-सारंगपुरा,रम्झानिपुरा, तहसील-बामनवास जिला सवाई माधोपुर

15-गाँव-जय लाल पूरा तहसील-बौली जिला सवाई माधोपुर

16-गाँव-श्री राज धीराजपूरा तहसील निवाई जिला टौंक

17-गाँव-नियामतपुरा तहसील-छबडा जिला झालावाड़

18-गाँव-भैसेना तहसील-बैर जिला भरतपुर

Notable persons

प्रभुनारायण बैफ़लावत

References



यह लेख एक आधार है। इसे बढ़ाकर आप मीणा विकिपीडिया की सहायता कर सकते हैं।