महादेव चांदा

From meenawiki
Jump to: navigation, search
महादेव चांदा

आप खोहगंग के प्रतापी राजा आलन सिंह जी चांदा के वंशज हैं l आपका जन्म चन्दलाई में हुआ l आप बहुत ही शांत साधु प्रवृर्ती के व्यक्ति थे l धार्मिक दृष्टि से आप महान तपस्वी मीणा सन्त थे l महादेव चांदा मीणा ने अपना समस्त जीवन समाज सुधार एवं लोगो के चरित्र निर्माण में लगा दिया l

आपके प्रभाव से अनेक लोग मीणा समाज सुधार में लग गए, जिनमे सांवताराम चांदा चन्दलाई, केसरराम जेफ़ पटेल परखेडा, जगन्नाथ बागड़ी जवाना आदि के नाम उल्लेखनीय हैं l आपके नेतृत्व में उपरोक्त महानुभावों ने मीणा जाति के सुधार एवं नागरिक अधिकारों के आंदोलनों में तन-मन धन से भाग लिया l

जयपुर मीणा सुधार समिति के महामंत्री स्वतंत्रता संग्राम सेनानी लक्ष्मीनारायण झरवाल के साथ आपने जरायमपेशा कानून को हटाने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई l डिग्गी के विशाल मीणा सम्मलेन में आपने बहुत ही ओजस्वी भाषण दिया l मीणा समाज के कुछ समाज कंटकों को सही रास्ते में लाने में आपका कार्य बहुत ही सराहनीय था l रामपुरा (मैड) में महिलाओं को भगा ले जाने वाले गिरोह को कठोर दण्ड दिलवाया l

5 जून 1947 को जरायमपेशा कानून के पुतले जलाने वाले जयपुर के विशाल मीणा सम्मलेन में हजारों कार्यकर्ताओं के साथ जुलुस में सम्मिलित हुए l मीणा आन्दोलन को शक्तिशाली तथा सफल बनाने में आपने रात-दिन एक कर दिया l अन्त में आपकी अभिलाषा पूरी हुई l जयपुर रियासत ने जरायमपेशा कानून को निरस्त कर दिया l 10 अगस्त, 1946 के गजट में इसकी विधिवत घोषणा कर दी गई l जिसका विस्तृत वर्णन हम विगत पृष्ठों में पढ़ चुके हैं l

महादेव चांदा और उनके नेतृत्व में अनेक मीणा लोगों ने मीणा समाज की अपूर्व सेवा की l आज वे हमारे बीच में नहीं हैं, परन्तु उनके समाज सुधार के कार्यों से वे अभी तक जीवित हैं l मीणा समाज सदा के लिए उनको श्रद्धापूर्वक याद करता रहेगा l

संदर्भ