मालाराम पबडी

From meenawiki
Jump to: navigation, search
मालाराम पबडी

आपका जन्म 1907 में ग्राम छाजणा (खण्डेला) जिला सीकर में हुआ l सीकर जिले के आप प्रतिभाशाली और सम्माननीय व्यक्ति थे l राजस्थान मीणा सुधार समिति जयपुर द्वारा संचालित जरायमपेशा कानून हटाने के आन्दोलन में आपने सक्रिय रूप से भाग लिया l इस समय जयपुर, अलवर, टोंक तथा भरतपुर आदि श्रेत्र में निर्दोष मीणा समाज पर अनेक अत्याचार हो रहे थे l अतः आपने इन अमानवीय अत्याचारों के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए गाँव-गाँव घूमकर जनमत तैयार किया l मीणा जाति में व्याप्त अंध विश्वास तथा कुरीतियों को दूर करने का भी आपने भरपुर प्रयास किया l आपके ससुर श्री जीवनराम जी भी समाज सेवा में निरंतर लगे रहे l मीणा समाज में पंच के रूप में आपकी सेवा सराहनीय रही l हमीरपुर पंचायत के आप वर्षों तक सरपंच रहे l

श्री मालाराम बड़े स्वाभिमानी एवं निर्भीक व्यक्ति थे l मीणा जाति पर होने वाले अत्याचारों का आपने डटकर विरोध किया l अन्त में समाज सेवा करते-करते 30 जून, 1979 को अपने व्यक्तित्व की अमिट छाप छोड़कर स्वर्ग सिधार गए l आपके स्वर्गवास पर एक जाति बंधू ने अपनी संवेदना इस प्रकार प्रकट की l

जाति को गंगा कहने वाले, सबका मन हर्षाने वाले, दुखियों का दुःख सहने वाला, देखा न कोई दूजा है राम, तुझको मेरा कोटि-कोटि प्रणाम l


आपके पुत्र श्री रामचंद्र, धुड़ाराम, प्रतापराम और नारुराम भी समाज सेवा में निरंतर लगे रहते हैं l श्री रामचंद्र मीणा समाज के भामाशाह हैं l आपने मीणा छात्रावास नीम के थाने के लिए 20 मार्च, 1999 में तीन लाख रूपये सहायतार्थ दिए l श्री मालाराम के पौत्र देवी सहाय चिकित्सा विभाग में प्रोफेसर पद पर हैं और हड्डीयों के रोग के विशेषज्ञ हैं l मीणा समाज की सेवा के लिए मालाराम का परिवार सदा स्मरणीय रहेगा l

संदर्भ