मुनि मगनसागर

From meenawiki
Jump to: navigation, search
Munimagansagar.jpg

मीणासमाज के रत्न मुनि मगनसागर का जन्म टोंक के समीप उकलाना गांव में हुआ था. मुनि मगनसागर गोठवाल वंश के मीणा थे. उन्होंने जैन धर्म में दीक्षा लेकर संस्कृत, प्राकृत आदि का गहन अध्ययन किया था. मुनि मगनसागर "मीन पुराण" के रचियता हैं। बचपन में इनका नाम मांगीलाल था । इन्होंने अंगेजों के समय मीणाओं पर लागू ज़रायम पेशा क़ानून समाप्त कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।

मुनिजी का सबसे महत्वपूर्ण कार्य मीणा जाति में अपने प्राचीन गौरव का संचार करना था l इस जाति की जागृति के लिए आपने सर्वप्रथम १९४४ में मीणा समाज का नीम के थाने में विराट मीणा सम्मलेन का आयोजन किया, जिनका विस्तृत उल्लेख हम पूर्व पृष्ठों में कर चुके हैं l मुनिजी के इस उपकार का मीणा समाज सदा ॠणी रहेगा l


यह लेख एक आधार है। इसे बढ़ाकर आप मीणा विकिपीडिया की सहायता कर सकते हैं।