मेवल प्रदेश

From meenawiki
Jump to: navigation, search
Author of this article is पी एन बैफलावत

मेवल प्रदेश मेवल का मीना विद्रोह


रावत सारस्वत ने अपनी पुस्तक के पृष्ठ – 170 पर लिखा है राजस्थान में मीना एक ठेठ आदिवासी जाति है जिसने अपने अधिकारों की रक्षा के लिए निरन्तर संघर्ष भी जारी रखा और शताब्दियों तक शासक वर्ग को सुख चैन की नींद नही सोने दिया | राजनीतिक आर्थिक तथा सामाजिक सभी दृष्टियो से शोषित और पीड़ित होने पर भी मीनो का शौर्य और साहस अदभ्य रहा | उन्होंने महाराणा प्रताप सहित मेवाड़ के सभी राजाओ से संघर्ष किया |

महाराणा राजसिंह के समय हुए मीना विद्रोह का वर्णन करते हुए गोरीशंकर हिराचंद ओझा ने उदयपुर राज्य का इतिहास भाग-2 पृष्ट-543 में लिखा है –“ मेवाड़ के दक्षिण हिस्से का भाग मेवल नाम से प्रसिद्द है जहाँ जंगली मीना जाति की आबादी अधिकतर है | पुराने समय में मीना बहुल इस क्षेत्र को मेवल के नाम से पुकारा जाता था |” डॉ. देवी लाल पालीवाल ने प्राचीन पिंगल काव्य और महाराणा प्रताप के पृष्ट-9 में लिखा है की “मेवाड़ के दक्षिण भाग के रहने वाले पर्वतीय लोग मीना कहलाते है | ये लोग आस पास के इलाको में सदैव ही अशांति,उत्पात एवं लूटमार मचाते रहते थे |”सच तो यह था की मीना अपने अधिकारों की मांग कर रहे थे यह उनका स्वतंत्रता संग्राम था इस जमी भोम के असली मालिक होने के नाते | महाराणा प्रताप को भी उनके विरोध का सामना करना पड़ा था पर विदेशी आक्रमण के समय भरपूर सहयोग भी मिला |

सन 1662 में मेवल के मिनो ने सर उठाया, जिससे उनका दामन करने के लिए मानसिंह सारंग देवोत आदि सरदारों के नेतृत्व में सेना भेजी | कड़े संघर्ष के बाद मेवाड़ सेना को विजय मिल सकी | इस विजय पर सिरोपाव व यह प्रदेश उन्हें के हवाले कर दिया | राजप्रशस्ति महाकाव्य में भी इस घटना का उल्लेख है |

राजप्रशस्ति सर्ग- 8 ..

एकोनविंशत्यब्दे शते सप्त्देश गते |

मेवलं देश मतनोत्स्वसियं तं. ब्लान्नृप ||31||

मीनान्निर्जल मीना भान रुध्वा बध्वा ...करान |

खांद्या भासुरधिकं मीना सैन्यं महा भटा: ||32||

श्रीराण राजसिंहेन्द्रो मेवाल्न्त्वखिलं ददौ |

स्वीयराजन्य धन्येभ्यो वासोहय धनानि च ||33||

17वीं सदी91662) में 21 जनपदों में से महाराणा राज सिंह ने अपनी शक्ति से मेवल देश के राजा का बल तोड़ा | तब बिना जल के तड़पती मछली की तरह रोते हुए अपने से अधिक मीना सैनिको का वध कर दिया और कई को बंदी बना लिया तब उन्होंने अपना राज्य,हाथी,घोड़ा और धन महाराणा राज सिंह को दे दिया |

उदयपुर राज्य का इतिहास पृष्ट-709 पर ओझा के अनुसार युद्धप्रिय और स्वतन्त्रता प्रेमी मेर (मीना) जब कभी शासक की शक्ति क्षीण होती देखते तभी उपद्रव कर स्वतन्त्र हो जाते थे | जब जब उन्होंने मेवाड़ से स्वतन्त्र होना चाह तभी मेवाड़ के महारानाओ ने उन पर चढ़ाई कर उनका दामन किया | युद्धप्रिय और स्वतन्त्रता प्रेमी मीना स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर मेवाड़ के राजाओ को नाको चने तो चबवाए ही पर बाहरी आक्रमण के समय भरपूर साथ भी दिया इसी भरोसे पर मेवाड़ ने मुगलो से लम्बा संघर्ष जारी रख सके | इसलिए महाराणा प्रताप ने अपनी अंतिम राजधानी चावंड मेवल-छप्पन के बिच मीना बहुल क्षेत्र में ही स्थापित भरपूर सहयोग ले पूर्णत सुरक्षित रहे | राजधानी चावंड के पूर्व और में हरमोर गोत्री मीना, दक्षिण में हरमोर गोत्र के मीना बहुल सराडा ,पश्चिम में कातनवाडा-अम्बाला कटारा मीना बहुल,उत्तर में डायली और दक्षिण-पश्चममें खड़बड में खराड़ी मीना बहुल क्षेत्र है |

-पीएन बैफलावत