ललिता मीणा

From meenawiki
Jump to: navigation, search
Asmita.jpeg
Author of this article is पी एन बैफलावत

अस्मिता उर्फ़ ललिता मीणा का जन्म 12 मार्च 1988 को एक छोटे से गाँव-पंच लंगी पापड़ा तहसील-उदयपुरवाटी जिला झुंझुनू के गरीब आदिवासी किसान श्री भागीरथ मीणा माता श्रीमती सोहनी देवी के घर हुवा जो वर्ष 1995 में रोजगार के लिए टाटा नगर शास्त्री नगर जयपुर में आ बसे | बचपन से कुशाग्र बुद्धि की धनी बाला ने अपनी शिक्षा पूरी कर पर्दे की दुनिया में कदम रखा वैसे पर्दे की दुनिया में जाने का शौक बचपन से था स्कुल के कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया स्कुली शिक्षा से ही रंगमंच पर अपनी कला दिखाने लगी रविन्द्र रंग मंच पर कई प्रोग्राम दिए और विभिन्न श्रेणियों में कई पुरुष्कार जीते और सम्मान पाया |

रुपहले पर्दे की सितारा बनाने की मां की दिली तमन्ना ने इन्हें संगीत में स्नातक कराया स्नातकोत्तर ड्रामा (अभिनय)में करने के बाद अपनी कला दिखाने का पहला अवसर डॉ पवन सोराण जी के नाटक कालीदास में मिला |इसमें बहतरीन अभिनय करने पर आपका नाम सुर्खियों में आया | तमासा घराना के श्री दिलीप भट का भरपूर साथ और समर्थन ने ललिता जी के पर लगा दिए | वर्ष 2006 इनके लिए दुखद रहा मां का ब्रेन ट्यूमर के इलाज के दौरान देहांत और उनके सदमे में पिता को हृदय घात ने भी ललिता जी को नहीं तोड़ पाए इरादे की पक्की ललिता जी अपने लक्ष्य को नहीं भूली एसी विकट स्थिति में साथ दिया बड़ी बहिन कमलेश जी ने जिन्होंने माँ और पिता की भूमिका बखूबी निभाते हुए अपनी माँ की अंतिम इच्छा और बहिन के सपनों को पूरा करने के लिए इधर उधर से पैसो का प्रबध कर वर्ष 2011 में एन एस जी की परीक्षा देने मुंबई भेज दिया जहाँ इनका चयन हुआ पांच दिन की कार्यशाला के लिए दिल्ली गई |वहा इनको प्रवेश मिल गया पर सत्य के संघर्ष में उसको छोड़ मुंबईआ गई 23 वर्ष की उम्र में मुंबई आ ललिता उर्फ़ स्मिता ने कड़ी महनत की उनकी कला में निखार आने लगा पर अब भी किसी बड़े अवसर के तलाश है |

ललिता जी की अब तक की उपलब्धिया A- प्रसिद्द नाटक:- 1- अंधा युग 2-कालीदास (इन्द्रलेखा के किरदार में ) 3-चट्टे बट्टे (निर्देशक-नरेन्द्र बहल अंतिम ड्रामा) B- छोटे पर्दे पर :-1-झाँसी की रानी (मंदिरा के किरदार में ) 2-खुनी मोहब्बत ( रूठी,मुस्लिम लड़की के किरदार में ) 3- हानटेड नाईट स्टार-1 (घुंघरू एपिसोड में ) 4-लौट आओ त्रिषा C- इनकी प्रिसिद्ध फिल्मे है -1- रणथ्म्मोर (केनेडियन प्रोजेक्ट-निर्देशक पाल सोलोमन की फिल्म जो मामी फेस्टिवल के लिए चयनित हुई में मुख्य किरदार ) 2-गे गे रिसोर्ट हिंदी कामेडी फिल्म (प्रियंका किरदार में सहभिनेत्री ) 3-मिशन मुन्ना हिंदी फिल्म (पुलिस सब इन्पेक्टर के किरदार में ) 4- बुढ़ापा की लाठी 5- रुकमा राजस्थानी (मुख्य अभिनेत्री-रुकमा के रोल में ) रुकमा राजस्थानी में ललिता जी की बहतरीन कला ने लेखक व निर्देशक श्री Prabhu Dayal Meena को बेस्ट निर्देशन ( Riff "BEST DIRECTOR" AWARD ) का सम्मान दिलाया | ललिता उर्फ़ Aishmita Meena जी का सपना है अपनी मेहनत और हुनर से बहतरीन कलाकार बनना | दिनांक 13-02-2016 को समय 7:30 PM पर राघव तिवारी दुवारा लिखित और निर्देशित ड्रामा आई ST. Andrews College,ST. Dominic Road,Off Hill Road Bandra (w) Mumbai में होने जा रहा है मुख्य भूमिका में ललिता उर्फ़ Aishmita है