Category:लोक गायक

From meenawiki
Jump to: navigation, search
Gayak.jpg
Author of this article is पी एन बैफलावत

प्राचीन काल से ही लोकगीत मीणा समाज मेँ जीवन का एक अभिन्न अंग रहे है चाहे मांगलिक कार्य हो या उत्सव,देवी-देवताओं को मनाने के लिए कोई पूजा हो या किसी संस्कार,मेले या दैनिक कार्य करने का समय वह अपने मनोभावों की अभिव्यक्ति लोक गीतों के रूप में करते है ये लोक जागृति का सफल माध्यम भी है । इन लोकगीतों ने ही मीणा समुदाय की प्राचीन परम्पराओं,संस्कृति और इतिहास को अभी तक संजोए रखा है। आपका परिचय कराने जा रहे है कुछ पुराने प्रसिद्द गायक कलाकारों से जिनका इस संस्कृति को बचाए रखने में बहुत बड़ा योगदान रहा है |

1- रामपाल मीणा (गोहली) गाँव-तुर्किया तहसील- चाकसू जिला जयपुर

2- गेंदीलाल मीणा (डाडरवाल) गाँव-लाखनपुर तहसील-लालसोट,दौसा

3- रामचंद्र मीणा (गोमलाडू ) गाँव- बुगाला हंसमहल तहसील बस्सी,जयपुर

4- सांवलराम मीणा (मांदड) गाँव-खुर्रा तहसील-लालसोट जिला दौसा

5- कजोड़ मीणा गाँव- बडवा तहसील बस्सी जयपुर

6- जयनारायण मीणा (चांदा) , गाँव- बिड़ोली तहसील-लालसोट

7- रामचंद्र मीणा (ध्यावणा) गाँव- हीरापुरा तहसील चाकसू जयपुर

8- मूलचंद मीणा (देवाना) गाँव- मुंडली तहसील चाकसू जयपुर

9- नानगी मीणा गाँव-चोरवाडा तहसील बस्सी जयपुर

10- श्याणी मीणा पत्नी श्री मांगीलाल मीणा गाँव- सिदडा तहसील निवाई टोंक

प्रसिद्द गायका नानगी गुजरात में लारी खेंचती थी पर अपनी संस्कृति में दिल में संजोये रखती थी उनके बारे में एक गीत प्रसिद्द है :-

दन दो बार चाय बणावे,घाले छ चीणी | 750 मीणा में एकली रह छ नानगी मिणी ||

इसी प्रकार श्याणी ने तो अपनी गायकी के शोक में पति दुवारा छोड़ देने की भी प्रवाह नहीं की और गायक मांगी लाल के नाते बैठ गायन करते रही वो बड़े बड़े गीत दंगलो में हिस्सा लेती थी एकेली महिला पुरुषो के बिच गाती थी

एक समय था जब जयपुर राजा तीज के मेले में मीना लोकसंस्कृति देखता और सुनता था बड़ी चोपड़ पर दरबार लगता था और मीना लोग अपनी कला का प्रदर्शन करते थे राजा उनकी सराहना और प्रसंसा के साथ इनाम भी देता था |

राजा मान सिंह त्रितीय के समय रामपाल तुर्किया का एक कटाक्ष गीत प्रसिद्द रहा राजाजी नै मेल दिया काले पाणी | महलां काग उड़ा, तू तो एकली ली राणी ||

राजा ने यह गीत दोबारा सुनना चाहा तब तेवर एक देखएक पल में ही रामपाल ने गीत बदलकर गाया :-

राजा जी सुं मिलगी रे अगत्यारी | अब सोना का महल खणा रे राणी ||

This category currently contains no pages or media.